राजस्थान में सीजन की पहली सर्दी ने गुलाबीनगर को ठिठुराया, देर तक पसरा रहा कोहरा

0
86
sardi
first winter of the season in Rajasthan chills Gulabinagar, the fog continues for a long time

जयपुर प्रदेश में सर्दी आंख मिचौली कर रही थी। लेकिन मंगलवार को सर्दी के तेवर एकाएक तीखे हो गए। मौसम विभाग के पूर्वानुमान सटीक बैठा। गुलाबीनगरी समेत पूरे प्रदेश को कोहरे ने अपने आगोश में ले लिया। सुबह करीब साढ़े 9 बजे तक कोहरा घना कोहरा छाया रहने से लोगों की कंपकंपी छूट गई। तेज सर्दी अगले चार-पांच दिन तक बने रहने की संभावना जताई है। winter

सर्द हवा के बीच कोहरे से बढ़ी सर्दी winter

मौसम विभाग ने सीवियर कोल्ड वेव चलने की चेतावनी दे दी थी। शेखावटी इलाके में पारा माइनस डिग्री तक पहुंचने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ का असर समाप्त होने और एक नया स्पेल आने के कारण राजस्थान में सर्दी के तेवर फिर तीखे हो रहे हैं। सर्द हवा को देखते हुए मौसम विभाग ने मंगलवार को आठ जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है।

भरतपुर भाजपा नेताओं ने बोला जुबानी हमला, कांग्रेस की ठगी से डीग कुम्हेर में ठप्प पड़ा विकास

4-5 दिन रहेगा कोहरे और सर्दी का जोर winter

मौसम विभाग निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि राजस्थान में जारी अति शीतलहर का दौर अभी भी आगामी 4-5 दिनों तक और चलेगा। प्रदेशभर में मौसम शुष्क बना रहेगा। उन्होंने बताया कि इस दौरान शेखावाटी क्षेत्र के कुछ भागों में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस के आसपास दर्ज होने की प्रबल संभावना है। बीकानेर और जयपुर संभाग के कुछ भागों में सुबह के समय ग्राउंड फ्रॉस्ट/ जमीनी पाला पड़ने की संभावना है। winter

शेखावाटी में पाला पड़ने की आशंका, 8 जिलों में येलो अलर्ट

मौसम विभाग ने मंगलवार को 8 जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। अलवर और भरतपुर में घना कोहरा छाया रहा। शेखावाटी के सीकर, झुंझुनूं और चूरू समेत बीकानेर, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर में सीवियर कोल्ड वेव चलने के साथ ही पाला पड़ने की संभावना है।

फतेहपुर में पारा 1.2 डिग्री सेल्सियस रहा

इससे पहले सोमवार को चूरू, सीकर, हनुमानगढ़ और अलवर जिलों में कहीं कहीं शीतलहर और अतिशीत लहर दर्ज की गई है। सीकर के फतेहपुर में न्यूनतम पारा 1.2 डिग्री और उससे सटे चूरू में 1.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। लोग सुबह देर तक गर्म कपड़ों में लिपटे रहते हैं तो शाम को जल्दी ही सड़कें सूनी होने लगती है। कई इलाकों में अलाव ही सहारा बना हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here